भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ सहजे आइ डोला राजा / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आ सहजे आइ डोला राजा
अगुआ के दऽ दीयौ हौ
हौ एत्तेक बात आइ राजा सुनै छै
तरबा लहरि मगज पर चढ़लै
आ कुरसी छोड़ि देल राजा दरबी
जादू के जाल हौ राजा खोलै छै
तब हौ जबाब आइ मनीसिंह दै छै
आ सुन अन्हेरबाट तोरा कहै छै
मन से नइ हम लाधा करबै
आ जादू के लड़ाइ हम ड्योढ़िया पर करबै ने हौऽऽ।
हौ जादू के लड़ाइ राजा लड़ै छै
आ उनटा जादू अन्हेरबाट के मारैय
आ छौड़ा अन्हेरबाट ड्योढ़ी पर गिरलै
आ रग-रग जादू अन्हेरबाट के लगलै
आ कड़ा सवाल हौ राजा करै छै
सुनलय रौ सुनलय छौड़ा पलटनियाँ
आ उनटा बाँन्ह आ दुश्मन के बन्हियौ
कड़ा रे जहलमे दुश्मन के दीयौ
आ जल्दी आइ बान्हि के आइ हाजतमे दऽ दीयौ यौ।।