भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

इंतज़ार / श्रद्धा जैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जुदाई और मिलन के दरमियाँ हैं कुछ
गिले - शिक़वे,
महकती गुफ़तगू , वादे
सितारों से भरा दामन
तेरा हँसता हुआ चेहरा
ग़ज़ल कहती हुई आँखें

मगर फिर भी
न जाने क्यूँ
तुम्हें जब याद करती हूँ
तो इतना याद आता है

हमेशा जागती आँखें
समाअत का छलावा भी
यक़ीं से वहम का रस्ता
तेरी आहट का धोखा भी
दिया था जो मुझे तुमने
बिछड़ने से ज़रा पहले