भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इंद्र निज हेरत फिरत गज इंद्र अरु /भूषण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इंद्र निज हेरत फिरत गज इंद्र अरु,
इंद्र को अनुज हेरै दुगध नदीश कौं.
भूषण भनत सुर सरिता कौं हंस हेरै,
विधि हेरै हंस को चकोर रजनीश कौं.
साहि तनै सिवराज करनी करी है तैं,
जु होत है अच्मभो देव कोटियो तैंतीस को.
पावत न हेरे जस तेरे में हिराने निज,
गिरि कों गिरीस हेरैं गिरजा गिरीस को.