भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

इक दिन जा बैठी सो डार के पटा / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

इक दिन जा बैठी सो डार के पटा
ईने बना दये, बिना नोन के भटा
तनक चीखो तो
मतारी मोरी, बोलो तो , कैसी जा ढूंड़ी दुलईया

एक दिन जा बैठी सो ले रई पुआर
और खीर मे लगा दओ हींग को बघार
तनक सूँघो तो
मतारी मोरी, बोलो तो, कैसी जा ढूंड़ी दुलईया

इक दिन जा बैठी सो कर रई सिंगार
और ओंठ मे लगा लओ ईने पाँव को महार
तनक देखो तो
मतारी मोरी, बोलो तो, कैसी जा ढूंड़ी दुलईया