भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इक लफ़्ज़ में जो प्यार का पैग़ाम लिख गया / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इक लफ़्ज़ में जो प्यार का पैग़ाम लिख गया
उँगली से रेत पर वो मेरा नाम लिख गया

मिलनी थी जिस गुनाह पे मुझको सज़ाए-मौत
मुंसिफ़ उसी गुनाह पे ईनाम लिख गया

कर्फ़्यू का भूत हाथ में लेकर कलम-दवात
इक खौफ़ज़दा शाम सबके नाम लिख गया

मैं वक़्त के तिलिस्म को समझा नहीं कभी
आग़ाज़ लिख के हाथ पे अंजाम लिख गया

माली भी था अजीब कि वो जिन्स की तरह
फूलों के भाव ख़ुश्बुओं के दाम लिख गया.