भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इतना तो होगा ही / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहार आएगी
तो क्या कुछ नहीं होगा नया

इतना तो होगा ही कि
फूलों की नई फ़स्ल में
मैं-कहीं छिपा हूंगा
तुम्हीं को देखता

कसमसाती कोंपलों की उठानों में
तुम-
कहीं होगी
छिपती छिपाती

क्या ये कुछ नहीं होगा
नया!?