भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इतिहास काळीबंगा रो / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिल्यो है जद
काळीबंगा रै थेड़ में
राजा रो बास
तो जरूर रै’या होला
इतिहास रा आखर
दुड़ पण गया किंयां
कुण ई तो जरूर
भगाई है भूख
कीं दिन
जद ई तो लाधै
हाडपींजरा में
इतिहास काळीबंगा रो।