भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इति / किरण अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक भयभीत ख़ुशी
चूम गई
लोगों के कुम्हलाए चेहरों को
वे समवेत चिल्लाए—
'सूरज भाई उठो
अपने घर चलो
देखो तुम्हारे बिना हमारी क्या दशा हो गई'
'हू डेयर्ड टु वेक मी अप फ़्रॉम माई ड्रीम ?'
सूरज ने खोल दीं अपनी रक्तिम आँखें
'लेट मी हैव वन ए०के०-42 राइफ़ल ऐट लीस्ट'
वह मुस्कराया
और आसमान पर चढ़ आया