भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

इत्तेफ़ाक़ / अख़्तर-उल-ईमान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दयार-ए-ग़ैर में कोई जहाँ न अपना हो
शदीद कर्ब[1] की घड़ियाँ गुज़ार चुकने पर
कुछ इत्तेफ़ाक़ हो ऐसा कि एक शाम कहीं
किसी एक ऐसी जगह से हो यूँ ही मेरा गुज़र
जहाँ हुजूम-ए-गुरेज़ाँ[2] में तुम नज़र आ जाओ
और एक-एक को हैरत से देखता रहे


उर्दू से लिप्यंतर : लीना नियाज

शब्दार्थ
  1. दुख
  2. भागती हुई भीड़