भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इत्मीनान है मुझे / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बड़ी नहीं हुई उम्र के साथ
अच्छा है
बचपन है मेरे साथ
नज़र दर्पण
दिखता है जिसमें
सबका असली चेहरा
घृणा नहीं करती किसी से।
लिया नहीं किसी से कुछ
दुःख के सिवा
दिया-हाँ दिया है
सुख...
किया, हाँ किया है
प्रेम
सच है
खूब ठगी गयी
इत्मीनान है
ठगा नहीं किसी को।