भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इन्द्रिय के सब भोग विविध भीषण / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(राग वसन्त-ताल कहरवा)
 
इन्द्रियके सब भोग विविध भीषण दुःखोंकी गहरी खान।
सुखका भ्रम ही होता, इनमें सुखका तनिक न नाम-निशान॥
‘सफल मनोरथ निश्चय होगा मेरा सारा अबकी बार।
अबकी बार कटेंगे सब दुख, सुखका नहीं रहेगा पार॥’
मिथ्या सुखकी आशा यह-रखती मन नित्य अशान्ति अपार।
रहता सदा भटकता, पर पाता न कहीं सुखका आसार॥
मिलती कहीं सफलता, बढ़ता तुरत सफलताका अभिमान।
पर अन्योंका देख अधिक साफल्य, चित अति होता लान॥
इतनेमें फिर कहीं पलट जाता पासा, आता दुख-भार।
रोता, पुनः कलपता, दुखोंसे न कहीं पा सकता पार॥
नित्य नया भय, नित्य शोक, नित ही पद-पदपर आशा-भन्ग।
नित्य नयी भीषण दुःखोदधिमें उठतीं उाल तरंग॥
तो भी ममता नहीं छूटती, हटता नहीं भोग अनुराग।
बढ़ती नित्य नयी तृष्णा मन, बढ़ता भोगोंमें नव-राग॥
नित्य अशान्त, अघी जीवनका इतनेमें आ जाता अन्त।
मरता दुखी राग-ममतासे, ले सँग पाप-भार अत्यन्त॥
होता मानव-जन्म विफल, फिर विविध योनि, नरकोंके भोग।
अमित भोगने पड़ते, बरबस या प्रारध-जनित संयोग॥
इसे समझ, मानव-जीवनको मत खो‌ओ भोगोंमें भूल।
भोग-विरागी हो, भज हरि, पहुँचो भव-सागरके उस कूल॥