भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इश्क-ए-हक़ीक़ी / रेशमा हिंगोरानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देर तक...
दूर तक...
रहती है महक...
जब तू चला जाता है,
कहाँ घटता है असर,
जब तू चला जाता है…

वो बेमिसाल सा लफ़्ज़ों का जाल,
खिजाँ को जो बना दे
जाँफिज़ा!

तमाम वो कलाम,
तेरे फुर्क़त के काम...
जो भेजे मेरे नाम,
वो सारे ही पयाम,

बने रहते हैं बदस्तूर,
सब अपनी ही जगह!

उम्र कटती रहे,
घटती है कब कशिश तेरी?
वक़्त जाता रहे,
बदली है कब रविश तेरी?

कब उतरता है नशा,
जब तू चला जाता है…
कहाँ होती है बसर,
कहाँ घटता है असर,
जब तू चला जाता है…

04.06.93