भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस उस के असर में रहे / इसाक अश्क

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस उस के असर में रहे
हम फँसे भँवर में रहे

हाथ में उठाते पत्थर कैसे
उम्र भर काँच-घर में रहे

पहुँच कर भी नहीं पहुँचे कहीं
यूँ तो रोज़ सफ़र में रहे

झूठी नामवरी के लिए उलझे
बे-परों की ख़बर में रहे

काम एक भी न कर पाए ढंग का
खोए बस अगर-मगर में रहे