भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस बार मिले हैं ग़म कुछ और तरह से भी / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस बार मिले हैं ग़म, कुछ और तरह से भी
आँखें है हमारी नम, कुछ और तरह से भी

शोला भी नहीं उठता, काजल भी नहीं बनता
जलता है किसी का ग़म, कुछ और तरह से भी

हर शाख़ सुलगती है, हर फूल दहकता है
गिरती है कभी शबनम, कुछ और तरह से भी

मंज़िल ने दिए ताने, रस्ते भी हँसे लेकिन
चलते रहे अक़्सर हम, कुछ और तरह से भी

दामन कहीं फैला तो, महसूस हुआ यारों
क़द होता है अपना कम, कुछ और तरह से भी

उसने ही नहीं देखा, ये बात अलग वरना
इस बार सजे थे हम, कुछ और तरह से भी