भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

इस सोच में डूबा हूँ मैं जाऊँ कि न जाऊँ / कांतिमोहन 'सोज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस सोच में डूबा हूँ मैं जाऊँ कि न जाऊँ।
जो बीत चुका है उसे आवाज़ लगाऊँ ।।

ये सोच के मैंने कभी फ़रियाद नहीं की
फूलों ने जो बख़्शे हैं उन्हें ज़ख़्म बताऊँ ।

घनघोर अन्धेरे में चमक है तो इसी की
इस दर्द की किन्दील को मैं कैसे बुझाऊँ ।

मेरी ही खता है मेरा दिल है तेरे बस में
दिल पर मेरा बस हो तो तेरे पास न आऊँ ।

मैं आज अकेला नहीं मेला सा लगा है
कोई नहीं सुनता मेरी मैं किसको सुनाऊँ ।

जब उसने पुकारा तो मैं मसरूफ़ बहुत था
अब उम्र के सैलाब को किस मुँह से बुलाऊँ ।

इस दिल ने मुझे सोज़ कहीं का नहीं छोड़ा
दुखता है तो कम्बख़्त को कुछ और दुखाऊँ ।।