भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ईजा तलबी (सॉनेट) / ज़िया फतेहाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुझ को देखा तो थी नज़र की ख़ता
आह खींची तो बेकरार था दिल
नामुराद और सोगवार था दिल
जो हुआ जोश ए बेख़ुदी में हुआ

याद आती रही तेरी शोखी
भूल कर भी तुझे भूला ना सका
बात बिगड़ी हुई बना ना सका
रोज़-ओ शब् दिल की बेकली ना गई

राज़-ए वहशत सबा ने ताड़ लिया
गुल-ओ बुलबुल से कह दिया जा कर
अहल-ए गुलशन ने वज्द में आ कर
कह दिया तुझ से माजरा सारा

डर है , अब तू खफ़ा न हो जाए
दर्द दिल की दवा ना हो जाए