भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ई-मेल / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नई सदी की भाग-दौड़ में
पोस्टकार्ड रह गया फिसड्डी
आगे निकल गई ई-मेल।

इंटरनेट देश में आया,
कंप्यूटर से मेल कराया,
पंख लग गए संदशों को,
कागज-पत्र हो गए रद्दी,
चिट्ठी-पत्री हो गई फेल।

समझदार को सुविधा है ये,
नासमझों को दुविधा है ये,
वक्त घटा, घट गई दूरियाँ,
मेल-मिलाप हो गया जल्दी,
पर खतरों का है ये खेल।