भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ई केन्होॅ उत्सव / अभिनंदन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हो के छेलै
जे बही गेलै
कोशी के महाप्रलय में
आपने लोग छेलै
आपने खून
हौ के छेकै
जे भांसी गेलोॅ लोगोॅ के
हल्ला उड़ाय छै
कोठरी में लोर बहाय छै
आकाशोॅ में रोटी
उड़ावै छै
कुच्छू पानी में गिरावै छै
अखबारोॅ में फोटू छपवावै छै
हौ के छेकै ?
हम्में नै जानै छियै
जेना कि कोसी में भाँसतेॅ लोग
नै जानतें होतै
आपनोॅ जिनगी
आकि मिरतू केॅ
हाय महाप्रलय पर
लोकतंत्रा के ई केन्होॅ उत्सव ।