भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उतरो-उतरो रे सरग का देव पित्तर / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

उतरो-उतरो रे सरग का देव पित्तर
तुम्ह घरऽ पघरन कारन काजू
तुम्हरो पघरन तुम सम्हारो
हमरो आनो नी होय
सरग की बाटऽ बड़ी अवघड़
हमारो आनो नी होय
उतरो-उतरो रे सरग का छोटे देवअ्
तुम्ह घरऽ पघरन कारन काजू
सरग की बाटऽ बड़ी अवघड़
हमरो आनो नी होय
उतरो-उतरो रे सरग का राधेलाल
तुम्ह घरऽ पघरन कारन काजू
हम्मारो आनो नी होय
तुम्हरो पघरन तुम सम्हारो
हमरो आनो नी होय