भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उत्रहि राज से एलै एक मोगलवा / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

उत्रहि राज से एलै एक मोगलवा,
बान्हि जे देलकै कमला जी के धार ।
एहेन बान्ह जे बान्हल बोरी रे मोगलवा
सिकियो ने झझावे मोगला के बान्ह ।
हिन्दुओं नै बूझै मोगला, तुर्को नै बुझै
सब से चकरी ढुआवै ।
राजा शिवसिंह बैठल छलै मचोलवा,
तकरो से चेकरी ढुआवे ।
ऐसन बान्ह बान्हलक मोगलवा,
सीकयो ने झझावै मोगलाक बान्ह ।
कानि कानि चिठ्ठी लिखत माता कमला
दहुन गे गंगा बहिनो हाथ ।
गंगा बहिनो चिठ्ठी पढ़ै माटी भीजि गेलै,
हमरो सक नै टूटतै मोगलाक बान्ह
कानि कानि चिठ्ठी लिखै माता कमला
दहुन गे कोसिका बहिनो हाथ ।
कोसिका बहिनो चिठ्ठी पढ़ैत सोचे जे लागलै
हमरो सक नै टूटतै मोगलाक बान्ह ।
एहेन बामी माछ बनबैये बहिनो कमला
फोड़ करै जे मोगलाक बान्ह ।
फोड़ करैत कोसी हुलि देल कै,
केल कै सम्मुख घार ।
गावल सेवक माता दुहु कलजोड़ी
जुग जुग जपब तोहर नाम ।
राजा शिव सिंह चरन नमावे,
मैया हे धनि धनि तोहर प्रभाव ।
तोरा देबौ कमला जोड़ जोड़ पाठी,
कोहला के पाहुल चढ़ाय ।
गावल सेवक माता दुहु कल जोड़ी
युग युग जपब तोहर नाम ।