भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उमडि घुमडि घन छोरत अखंड धार / रामजी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उमडि घुमडि घन छोरत अखंड धार
               चंचला उठति तामें तरजि तरजि कै.
बरही पपीहा भेक पिक खम टेरत हैं,
               धुनि सुनि प्रान उठे लरजि लरजि कै.
कहै कवि राम लखि चमक खदोतन की,
               पीतम को रही मैं तो बरजि बरजि कै.
लागे तन तावन बिना री मनभावन के,
               सावन दुवन आयो गरजि गरजि कै.