भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उर्वशी सुनो / चंद्र रेखा ढडवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


गंध मादन की हवाओं ने
भरी होगी रिक्तता
तुम्हारे हृदय की
तुम्हे‍ भी तो पुरु
सहला गई होगी
चांद की ठण्डक
और चढ़ते सूरज के साथ-साथ
प्रकाश-पुंज हुई होंगी
तुम्हारी आँखें
फिर वो क्या था
जो तमसे अलग
भोगा उर्वशी ने
कि अभिशप्त हुई वह?