भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसका क्या वो दरिया था उसको बहना ही बहना था / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसका क्या वो दरिया था उसको बहना ही बहना था ।
लेकिन तुम तो पर्वत थे, तुमको तो साबित रहना था ।

कितनी जल्दी उसके चेहरे पर तब्दीली आई थी,
थोड़ी देर ही पहले उसने अपना रुतबा पहना था ।

उसके काँधों पर ही ज़िम्मेदारी थी तामीरी की,
उसको बुनियादी होने का ग़म सहना ही सहना था ।

दोनों थे बरअक्स मगर दोनों ही मेरे साहिल थे,
मुझको दोनों ही जानिब से हाथ मिला कर रहना था ।

घर से निकला था ये सोच के ये, ये कहना है उनसे,
लौटा तो कुछ याद न था क्या कह आया क्या कहना था ।

हम चलते या रुकते हर सूरत में धूप की चाँदी थी,
पेड़ बहुत थे रस्ते में लेकिन हर पेड़ बरहना था ।

मौक़ा देख के बात बदल देने की फ़ितरत फ़ैशन है,
अपनी बात पे क़ायम रहने का किरदार तो गहना था ।