भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसको क्या-क्या हुनर नहीं आता / मदन मोहन दानिश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसको क्या-क्या हुनर नहीं आता,
दर-ब-दर है, नज़र नहीं आता ।

जबसे दुनिया का सच खुला हम पर,
कोई झूठा नज़र नहीं आता ।

शेर कहना, उदास हो लेना,
ये हुनर भी अगर नहीं आता ?

सोचता हूँ, अब इस बुलंदी से,
काश जीना नज़र नहीं आता ।

कितने मौसम बदल गए दानिश,
आने वाला मगर नहीं आता ।