भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसको लेकर तनाव है अब भी / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसको लेकर तनाव है अब भी
यानी उससे लगाव है अब भी

पार पाना ग़मों का मुश्किल है
मुझमें इतना बहाव है अब भी

सीना ताने हैं क्या बताएँ मगर
कुछ न कुछ तो झुकाव है अब भी

लोग पहले ही सा समझते हैं
मुझमें वो रखरखाव है अब भी

फ़िक्स हैं रेट जाने कब से मगर
सोच में मोल-भाव है अब भी

फ़ासला कम तो हो गया लेकिन
रास्ते में घुमाव है अब भी