भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसे पता ही नहीं रंज में ख़ुशी क्या है / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसे पता ही नहीं रंज में ख़ुशी क्या है ।
वो जानता ही नहीं लुत्फ़-ए-ज़िन्दगी क्या है ।

उन्हें तो मिलते हैं पीने को मुफ्त में दरया,
समुन्दरों से न पूछो कि तिश्नगी क्या है ।

न धूप ने कभी देखी है तीरगी शब की,
न धूप को ये पता है कि चाँदनी क्या है ।

अगर तू वाक़ई बारिश है तो बरस जम कर,
चटा दे धूल घटाओं को देखती क्या है ।

हज़ार लाख सितारे खला में हैं लेकिन,
जो तीरगी न मिटाए वो रौशनी क्या है ।

’नदीम’ शेख़-ओ-बिरहमन ग़रीब क्या जानें,
शराब क्या है, सुबू क्या है, मयकशी क्या है ।