भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस कू मैं हुए हम वो लब-ए-बाम न आया / मीर 'तस्कीन' देहलवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उस कू मैं हुए हम वो लब-ए-बाम न आया
ऐ जज़्बा-ए-दिल तू भी किसी काम न आया

था मेरी तरह ग़ैर को भी दावा-ए-उल्फ़त
नासेह तू उसे देने का इल्ज़्ााम न आया

बे-बाल-ओ-परी खोती है तौक़ीर-ए-असीरी
सय्याद यहाँ ले के कभी दाम न आया

इस नाज़ के सदक़े हूँ तेरे मैं के अदू से
सौ बार सुना है पे मेरा नाम न आया

क्या जानिए किस तरह दिया तू ने जवाब आह
क़ासिद की ज़बाँ पर तेरा पैग़ाम न आया

‘तस्कीन’ करूँ क्या दिल-ए-मुज़्तर का इलाज अब
कमबख़्त को मर कर भी तो आराम न आया