भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

उस गली से जब गुज़रते हम चले जाते हैं दोस्त / दीपक शर्मा 'दीप'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


उस गली से जब गुज़रते हम चले जाते हैं दोस्त
पूछ मत कितना सिसकते और पछताते हैं दोस्त!

ज़िन्दगी को खा गयी है मस्लेहत बे-शक़, मगर
तुम यकीं मानो कि इससे ख़ूब-तर खाते हैं दोस्त

वक़्ते-शब घर से बुला कर के थमा कर के 'शराब'
सुब्ह को दुनिया के हो कर तंज़-फ़रमाते हैं दोस्त

सब नवाज़िश है तिरी ही के ख़लिश है दम-ब-दम
पाँव पड़ते हैं चला जा, ‘अब कसम खाते हैं दोस्त’

अब ख़ुशी मिलती नहीं है सिर्फ़ डर लगता है 'दीप'
जब अचानक आ के साँकल, पीटते जाते हैं दोस्त