भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस ठौर / साधना सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं
नदिया सी बहती
मिलती, मिटती
पहुँची
उस ठौर

जहाँ
अनन्त मेरा
किनारा था

मांगा
उसने रंग मेरा
गति मेरी
मति मेरी
और
व्यक्तित्त्व का
विलोप

शतदल
पत्रों में
इन्द्रधनुषी रंग समेटे
चली मैं
ऊर्ध्वगामी
सहस्रार से मिलने

एकाकार हुई
रंग रहा न मेरा
गति हुई अद्श्य