भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उस से बिछड़ के जी का ज़ियाँ कम नहीं हुआ / राशिद हामिदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उस से बिछड़ के जी का ज़ियाँ कम नहीं हुआ
कुछ बढ़ गया है दर्द-ए-निहाँ कम नहीं हुआ

मेहवर बड़ी का कौन है ये जानते हैं सब
लेकिन तिलिस्म-ए-फ़ित्ना-गिराँ नहीं हुआ

तर्क-ए-तअल्लुक़ात को अरसा हुआ मगर
जश्न-ए-शिकस्त-ए-क़रिया-ए-जाँ कम नहीं हुआ

आगे अमानतों का कड़ा एहतिसाब है
मर कर भी सर से बार-ए-गिराँ कम नहीं हुआ

महताब यूँ तो लाख उगाए यक़ीन ने
मेरी नज़र में हुस्न-ए-बुताँ कम नहीं हुआ

अपनी बिसात-ए-रूह मैं कैसे समेट लूँ
‘राशिद’ अभी तो कार-ए-जहाँ कम नहीं हुआ