भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एकान्त / विपिन चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एकान्त मेरा पल्लू पकड़ कर
इस कमरे में जम गया है
अब यहीं पर बैठे-बैठे ही
मुझे देखना होगा
कोहरे से लदी-फदी उदास सर्द शामों का ऊँचा शामियाना
दिन की फड़कती नब्ज़
को अपनी पलकों से थामना होगा
आलथी-पालथी बैठे हुए
कल्पनाओं के तीरों को
यहाँ-वहाँ छोड़ना होगा
मछली की तरह खुली आँखों
से रात के सारे पहरों को पार करना होगा
तारों की आपसी टकराहटों को
उसी चुप्पी की गरिमा से महसूसना होगा
अपने भीतर की अरबों-खरबों
कोशिकाओं के बँटवारे को महसूस करती हूँ
जैसे
चुपचाप अकेले-एकान्त में