भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एकालाप / शुभा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या नष्ट किया जा रहा है
यह दृश्य है जो खत्म हो रहा है
या मेरी नज़र
ये मेरी आवाज़ खत्म हो रही है
या गूंज पैदा करने वाले दबाव

आत्मजगत मिट रहा है या वस्तुजगत

कौन देख सकता है भला इस
मक्खी की भनभनाहट
इसकी बेचैन उड़ान
 

कौन तड़प सकता है
संवाद के लिए और उसके
बनने तक कौन कर सकता है
एकालाप ।