भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक इस्राइली यहूदी और एक अरब के बीच बातचीत / समीह अल कासिम / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

— मेरे पितामह जले थे ऑशविज में
— मेरी सहानुभूति उनके साथ है, पर मेरे
              शरीर से अलग करो ये ज़ंजीरें
— तुम्हारे हाथ में क्या है?
— एक मुट्ठी बीज
— तुम्हारे चेहरे पर गुस्से का रंग है
— धरती का रंग है यह
— अपनी तलवार को बदल डालो फाल में
— तुमने ज़रा भी तो ज़मीन नहीं छोड़ी
— तुम एक अपराधी हो !
— मैंने किसी को मारा नहीं, हत्या नहीं की कभी,
               प्रताड़ित नहीं किया किसी को !
— तुम एक अरब हो, कुत्ते हो !
— ख़ुदा तुम्हारी रक्षा करे, लोगों से प्रेम करो,
                      सूर्य के लिए बनाओ रास्ता !

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय