भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक और अग्नि परीक्षा / राकेश पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज मौन बोलो
उसे ही सुनना है !

इस मौन के उच्चारण में
जड़ता एकालापी नहीं होगी !

अभिप्राय वाली कोई मूक अभिनय भी नहीं !
हमसंगी नृत्य के कोई धुन भी नहीं !
न ही कोई मौन की कथकीय मुद्रा !

इस चुप्पी में कोई एकसार स्वर भी नहीं होगा !
इस चुप्पी में शब्द भी कहीं रखे नहीं होंगे !

भले ही मचल रही हो वर्ण की मछलियाँ
रोपे हुए आहों को साथ लिए
गलफड़े से चीख़ भी रही होंगी यें !
उस आद्र चीख़ की सांद्रता में
मौन भी मुखर होगा अवश्य ही !

पर यह चुप्पी के चीख,
मौन का चीत्कार वहाँ होगा ??

जहाँ चस्पाई हुई चुप्पी में
कोई सीता
फिर से दे चुकी होगी
एक और अग्नि परीक्षा !