भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक कहानी / प्रताप सहगल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे पिता ने मुझे एक कहानी सुनाई
एक कव्वा पेड़ पर बैठा था
उसकी चोंच में रोटी का टुकड़ा था
नीचे से गुज़रती एक लोमड़ी ने
कव्वे की चोंच में रोटी का टुकड़ा देखा
उसने कहा- 'कव्वे ! कव्वे ! तुम बहुत अच्छा गाते हो'
कव्वे ने काँव-काँव करना शुरु कर दिया
रोटी का टुकड़ा नीचे गिरा
और लोमड़ी उठा कर भाग गई।
 
मैंने अपने बेटे को कहानी सुनाई
एक कव्वा पेड़ पर बैठा था
उसकी चोंच में रोटी का टुकड़ा था
नीचे से गुज़रती एक लोमड़ी ने
कव्वे की चोंच में रोटी का टुकड़ा देखा
उसने कहा - 'कव्वे ! कव्वे ! तुम बहुत अच्छा गाते हो'
कव्वे ने रोटी के टुकड़े को चोंच से निकाल कर
अपने पंजे के नीचे दबा लिया
और काँव-काँव करने लगा।
 
मेरे बेटे ने अपने बेटे को कहानी सुनाई
एक कव्वा पेड़ पर बैठा था
उसकी चोंच में रोटी का टुकड़ा था
पेड़ के नीचे से गुज़रती एक लोमड़ी ने
कव्वे की चोंच में रोटी का टुकड़ा देखा
उसने कहा, 'कव्वे ! कव्वे ! तुम बहुत अच्छा गाते हो'
कव्वे ने रोटी के टुकड़े को इत्मीनान से खाया
और काँव काँव करने लगा।
 
मेरे पोते ने अपने बेटे को कहानी सुनाई
एक कव्वा पेड़ पर बैठा था
उसकी चोंच में रोटी का टुकड़ा था
पेड़ के नीचे से गुज़रती एक लोमड़ी ने
कव्वे की चोंच में रोटी का टुकड़ा देखा
उसने कहा- 'कव्वे! कव्वे! तुम बहुत अच्छा गाते हो'
कव्वे ने सुना
और रोटी का टुकड़ा चोंच में दबाए
पेड़ से उड़ गया
 
यह कहानी पीढी दर पीढ़ी चलती रही
अंततः यूँ हुआ
 
एक कव्वा पेड़ पर बैठा था
उसकी चोंच में रोटी का टुकड़ा था
पेड़ के नीचे से गुज़रती एक लोमड़ी ने
कव्वे की चोंच में रोटी का टुकड़ा देखा
उसने कहा- 'कव्वे ! कव्वे! तुम बहुत अच्छा गाते हो'
कव्वे ने सुना
उसकी आँखों ने कुछ देखा
और वह रोटी का टुकड़ा चोंच में दबाए
पेड़ से उड़ गया
लोमड़ी दुविधा की हालत में खड़ी ही थी
कि कव्वा दल-बल सहित लौट आया
और उन्होंने लोमड़ी पर हल्ला बोल दिया
 
बस आपसे एक विनती है
कि इस कहानी के अंतिम अंश को
आप सच न मानें
यह मात्र मेरी सदइच्छा है।