भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक तुम हो / मनविंदर भिम्बर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक तुम हो
जो पानी पर भी उकेर देते हो मन की भावनाएँ
एक मैं हूँ
जो काग़ज़ पर भी कुछ उतार नहीं पाती

तुमने अकसर झील के पानी पर
पहाड़ और पेड़ ऐसे उकेर दिए
जैसे झील पर उग आया हो एक संसार

झील पहाड़ और पेड़
मैं खोती रहती हूँ इनमें
और देखती हूँ अपने अक्षरों को
झील में तैरते हुए
पहाड़ पर चढ़ते हुए
पेड़ पर लटके हुए

तब तुम कहते हो
`आँखें खोलो´
पर नज़रें कैसे मिलाऊँ
उस पल