भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक दिन ले दुय दिन, दुय दिन ले आँट दिन / छत्तीसगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

एक दिन ले दुय दिन
दुय दिन ले आँट दिन
धनकुल मँडालो होय रानी चो
धनकुल मँडालो होय
धनकुल-सेवा करे रानी
धनकुल-पुजा करे
आँट दिन ले पँदरा दिन
पँदरा दिन ले मयना दिन
धनकुल मँडालो होय रानी चो
धनकुल मँडालो होय
धनकुल-सेवा करे रानी
धनकुल-सेवा करे

छय मइना होए रे भगवान
साल-डेड़ साल होये परभू
धनकुल मँडालो होय रानी चो
धनकुल मँडालो होय
धनकुल-सेवा करे रानी
धनकुल-पुजा करे
मने बिचार रानी करे
दिले धोका रानी करे
हे राम भगवान बले रानी
बाप रे दइया बले
नाना पयकार होले बले
मयँ बाना-बिसा होले
काईं नामना निंहाय बले
काईं किरती निंहाय बले
जिव रत ले खायँदे बले
मोचो करले नाव निंआय
एके किरती करले जाले
एक किरती करले जाले
जुग-जुग नाव रएदे बले
मोचो किरती बाड़ुन जायदे
बाजे बसुन जात राजा-रानी
सेज बसुन जात

सुना राजा राजरपती
सुना राजा देसरपती
बाते सुनुन जाहा राजा
गोठ मानुन जाहा
काईं नामना निंहाय राजा
मचो काईं किरती निंहाय
एके किरती करले जाले
एक किरती करले जाले
जुग-जुग नाओ रएदे राजा
किरती बाढ़ुन जायदे
काय किरती आय रानी
आले मोके साँग

सुना राजा राजरपती
सुना राजा देसरपती
तुलसी मँडाउन दिहा राजा
मके तुलसी मँडाउन दिया
तुलसी-सेवा करें राजा
मयँ तुलसी-पुजा करें
काईं बले नाओ रएदे राजा
जुग-जुग नाओ होयदे राजा
रानी हट मताय राजा के
रानी टेको मताय
दतुन नई चाबे रानी
अन नई खाए
भुके-भुके बले रानी आसे
भुके-भुके रानी आसे
बाँजा राजा दखे बाबा
बाँजा राजा दखे
रानी के काए बले राजा
सुना रानी बले
तिनपुर टेकहिन आइस रानी
बड़ा उपइन आस रानी
टेक मताउन जास रानी
हट मताउन जास
दतुन नई चाबिस रानी
अन नई खाइस
तिनपुर रोना तुय रोइस रानी
तिनपुर रदना धरिस रानी
तिनपुर हट मतास रानी
तिनपुर टेको मतास
भुक ने मरुन जासे रानी
तुय भुके मरुन जासे

दतुन चाबुन जा रे रानी
अन खाउन जा रे रानी
तुलसी मँडाउन दइँदे रानी
तुके तुलसी मँडाउन दयँदे
रानी सुनुन जाय बाबा
खँड मुचकी मारे
मुचमुच-मुचमुच रानी हाँसे
मुचमुच-मुचमुच रानी हाँसे
दतुन चाबुन जाय रानी
अन खाउन जाय

एक दिन ले दुय दिन
दुय दिन ले आँट दिन
दतुन चाबलो होय रानी चो
अन खादलो होय
बाजे बसुन जात राजा-रानी
सेज बसुन जात
सुना राजा बाँजा राजा
सुना राजा बाँजा राजा
पँजिआर-माहाले जाहा राजा
पँडित-माहाल जाहा
पँडित बलाउन आना राजा
मके तुलसी मँडाउन दयदे

सुने राजा बाँजा राजा
सुने राजा बाँजा राजा
बाबू के काए बले राजा
सुन बाबू बले
उपरभवने जा बाबू
तुय साहादेव पँडित के आन
आपलो जाको बले धरो बाबू
आपन साजू धरो बाबू
एक डँडिक एवो बाबू
मके तुलसी मँडाउन दयदे
रानी हट मताय बाबू
रानी टेक मताय

सुने बाबू झोलू पाइक
सुने बाबू झोलू पाइक
हरबर तियार होय बाबू
जलदी तियार होय
आपन साजू पिंदे बाबू
आपन जाको धरे
हाते बेद बले बाबू धरे
पाँए खड़ऊ बाबू पिंदे
राजा-माहाल छाँडे बाबू
जाते-जाते जाय
रुमझुम-रुमझुम रेंगे बाबू
एक कोलाट मारे

जाए बाबू झोलू पाइक
जाए बाबू झोलू पाइक
मोकोड़ी-माहाले जाय बाबू
मोकोड़ी-माहाल अमरे
माँडो मोंगरा उबे बाबू
बाई हंका मारे
बाई सुनुन जाये बाबा
घर ले बाहिर होय परभू
बाबू के काए बले बाई
सून बाबू बले
काय कामे इलिस बाबू
आले मोके साँग

सुन बाई पदमकड़ी
सुन बाई पदमकड़ी
सुत लमाउन दे बाई
मके ताग लमाउन दे
उपरभवने जायँ बाई
मयँ उपरभवने जायँ

सुन बाबू झोलू पाइक
सुन बाबू झोलू पाइक
कइसे सुत लमायँ बाबू
मयँ कइसे तागो लमायँ
बाल-बचा गागोत बाबू
लोलो-बालो गागोत

तुचो पिला के लाई दयँदे
तुचो पिला के खेलाते रएँदे
सुत लमाउन दे बाई
मके ताग लमाउन दे
बाई सुनुन जाय बाबा
सरसर सुतो लमाय