भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक बार फिर / वेलेमीर ख़्लेब्निकफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: वेलेमीर ख़्लेब्निकफ़  » एक बार फिर

एक बार फिर
मैं सितारा हूँ
तुम्हारे लिए

अफ़सोस है
उस नाविक के लिए
जिसने अपने जहाज़ की ग़लत दिशा
सितारे से निश्चित की
चट्टानों से टकरा वह चूर-चूर होगा
जल-तल में रेत में धँसेगा

अफ़सोस है
तुम्हारे लिए
जिसने अपने दिल की ग़लत दिशा
मुझसे निश्चित की
तुम भी चट्टानों से टकराकर
चूर-चूर होगी

और फिर तुम पर चट्टानें ऎसे ही हँसेंगी
जैसे कि तुम मुझ पर हँसती हो


अंग्रेज़ी से अनुवाद : रमेश कौशिक