भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक बार ही सही / अनवर ईरज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो
बार-बार
बोल रहा है
और ज़हर उगल रहा है

वो
बार-बार
बोल रहा है
ग़लत और झूठ
बोल रहा है

क्या हम इतने
ग़ैर जानिबदार
सैक्यूलर
और मस्लेहात पसंद हो गए हैं
कि बार-बार नहीं तो कम से कम
हमें एक बार ही सही
सच तो बोलना चाहिए