भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक मुलाकात / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कल गहराती हुई
जाती हुई
जब शाम थी
इक रूह
मेरे रूबरू थी
बात मुझसे
कर रही थी
रस की बूंदे झर
रही थीं
मल्लिका का फूल
कोमल गात
कोमल बात वाला
था मुखातिब प्राण से
फुसफुसाता कान में
प्राण मेरे सुन रहे थे
प्राण मेरे कह रहे थे
प्राण की सरगोशियों में
खुशबुओं की बात थी
नेह की बरसात थी
कल शाम ने
मेरे सामने
इक आईना था धर दिया
यूँ लगा अपनी छवि
देखी तुम्हारे रूप में
पाई तुम्हारी रूह में
ओ मल्लिका। ओ मल्लिका।