भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक लोकगीत पढ़ते हुए / ज्ञान प्रकाश चौबे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चूल्हे में आग जले
जाड़े में रात रे !
आँखों में नींद पके
बटुली में भात रे !

सैंया मोरा राजा बने
मैं मैने की पाँख रे !
हँसती मैं जागूँ सोऊँ
रोए मोरी आँख रे !

मन मोरा पिसा जाय
मैं पिसू जाँत रे !
कोई तोड़े नशा मोरा
कोई तोड़े खाट रे !

सब कोई चाहे
बनूँ मन की मीत रे !
बर्तन सब ढ़ो-ढ़ो बाजे
किसी में न प्रीत रे !

काहू की जीत बनूँ
काहू की हार रे !
बिटिया मोरी मुझसे पूछे
माँ कैसी रीत रे !