भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक साथ तीनों / विपिन चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम
आत्मा का झीना वस्त्र है
ख़ुशबू
हवा का मीठा परिचय है
सिरफिरी कन्या-सी हवा
सिर के काढ़े हुये बालो को
मोरपंखी मुकुट बना कर खिलखिलाती है
जीवन
वह बैचनी है
जो दोपहर के भोजन के बाद
एक मीठे पान की तलाश में भटक रही है
प्रेम, ख़ुशबू और जीवन
तीनों एक साथ
पार्क की बैंच पर एक साथ बैठते हैं
तो एक लापता दुनिया का पता मिलता है