भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एनाऽ मण्ढवा को गोपीनाथ राय सागल / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

एनाऽ मण्ढवा को गोपीनाथ राय सागल
वी ते कहीं नी मिले रे पके पानऽ
मोतिन छायों मण्ढवा हो।।
एनाऽ मण्ढवा की पुष्पाबाई सागली
वा ते कहीं नी मिले रे पके पान
मोतिन छायो मण्ढवा हो।।
एनाऽ मण्ढवा की जयश्री बाई सागली
वा ते कहीं नी मिले रे पके पान
मोतिन छायो मण्ढवा हो।।
एनाऽ मण्ढवा को चिन्ध्या राय सागल
वी ते कहीं नी मिल रे पके पान
मोतिन छायो मण्ढवा हो।।
एनाऽ मण्ढवा की कमलाबाई सागली
वा ते कहीं नी मिले रे पके पान
मोतिन छायो मण्ढवा हो।।