भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एहसास-ए-ज़िम्मेदारी बेदार हो रहा है / राही फ़िदाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एहसास-ए-ज़िम्मेदारी बेदार हो रहा है
हर शख़्स अपने क़द का मीनार हो रहा है

आवाज़-ए-हक़ कहीं अब रू-पोश हो न जाए
हर्फ़-ए-ग़लत बरहना तल्वार हो रहा है

किस नक़्श की जिला है अनफ़ास-ए-कहकशाँ में
वो कौन साया-साया दीवार हो रहा है

मिन्नत-गह-ए-सियाही ऐलान-ए-ख़ैर-ए-ख़्वाही
कम-ज़र्फ़ वल्वलों का इज़हार हो रहा है

हैरत-ज़दा है ‘राही’ दरिया से एहतिजाजन
मासूम क़तरा-क़तरा ग़द्दार हो रहा है