भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ऐलै निंदिया रानी / अमरेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उड़नखटोला पर बैठी केॅ
ऐलै निंदिया रानी दौड़लोॅ आवै नानी।
मीट्ठोॅ-मीट्ठो खाय केॅ माँगै
तित्तोॅ-तित्तोॅ छाँटी
नूनू-नानी मिली-जुली केॅ
खैतेॅ बाँटी-बाँटी
सुर-सुर-सुर-सुर दही सुरकतै
गस-गस खैतै खीर
भीमें रं मोटैतै नूनओ
कर्णे नाँखि वीर
उड़नखटोला पर नूनू तेॅ
चढ़िये जैतै फानी/आबै निंदिया रानी।

फुर-फुर उड़तै उड़नखटोला
फर-फर कुर्त्ता नूनू के
बैठली नानी कहै कहानी
निंदिया नूनू दूनू के
सुनी कहानी नूनू ऐलै
लेल्हैं उड़नखटोला केॅ
नुनुओ सुतलै, निंदियो सुतलै
छोड़ी डोली-डोला केॅ
टिपिर-टिपिर, टप-टप-टप बोलै
पत्ता परकोॅ पानी/आबै निंदिया रानी।