भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐसे-ऐसे लोग रह गए / मुकुट बिहारी सरोज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐसे -ऐसे लोग रह गए।

बने अगर , तो पथ के रोड़ा
कर के कोई ऐब न छोड़ा
असली चेहरे दीख न जाएँ
इस कारण, हर दर्पण तोड़ा
 
वे आचार किए अस्वीकृत
जिनके लिए विचार कह गए।

कौन उठाए जोख़िम उतनी
तट से मँझधारों की जितनी
ख़ुद धोख़ा दें पतवारों को
नौबत अब आ पहुँची इतनी
 
पानी पर दुनिया बहती है
मग़र, हवा के साथ बह गए।

अस्थिर सबके सब पैमाने
तेरी जय-जयकार ज़माने
बन्द कपाट किए बैठे हैं
अब आए कोई समझाने

फूलों को ख़ामोश कर दिया
काँटों की हर बात सह गए।
ऐसे-ऐसे लोग रह गये।