भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

ऐ दिल नहीं ये मंज़िल रुकना यहां नहीं है / मधुभूषण शर्मा 'मधुर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

                         ऐ दिल नहीं ये मंज़िल रुकना यहां नहीं है
                         सामान दिलबरी का नादां कहां नहीं है !

                         हो ठहरने के काबिल मेरे किसी तरह से ,
                         ऐसा शहर में कोई लगता मकां नहीं है !

                         कुछ भी कहो मुझे तुम , आवारा या मसीहा ,
                         अब रहबरों भरोसे यह कारवां नहीं है !

                         मत पूछ क्या मज़ा है उन रास्तों पे चल के ,
                         मन्ज़िल का जिन पे कोई नामो-निशां नहीं है !

                         आसां नहीं है कोई मन्ज़िल को ढूंढ़ना भी ,
                         अक्सर लगे जहां वो होती वहां नहीं है !

                         क्यूं ढूंढ़ती है मेरी आंखों में अश्क दुनिया ,
                         इक उमर की तो आखिर यह दास्तां नहीं है !