भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ भगवन ऐ भगवन इंज के ज्ञानी गले माजा भगवन रे / कोरकू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ऐ भगवन ऐ भगवन इंज के ज्ञानी गले माजा भगवन रे
ऐ भगवन ऐ भगवन इंज के ज्ञानी गले माजा भगवन रे
ऐ पूरी आम केन ज्ञानी घाले मकान ईयेन दोषना हेजे
ऐ पूरी आम केन ज्ञानी घाले मकान ईयेन दोषना हेजे
खांडा सोकड़ा टोचना पूरी ढोला ढागा टोचना पूरी
खांडा सोकड़ा टोचना पूरी ढोला ढागा टोचना पूरी
आमकेन ज्ञानी घाले मखान इयेन दोसना हेजे
आमकेन ज्ञानी घाले मखान इयेन दोसना हेजे
ऐ भगवन ऐ भगवन इंज के ज्ञानी गले माजा भगवन रे
ऐ भगवन ऐ भगवन इंज के ज्ञानी गले माजा भगवन रे
ऐ पूरी ऐ पूरी आमकेन ज्ञानी घाले मखान इयेन दोसना हेजे
ऐ पूरी ऐ पूरी आमकेन ज्ञानी घाले मखान इयेन दोसना हेजे
ऐ पूरी ऐ पूरी उनीड़ी उसरी सुबाय पूरी पूरी
ऐ पूरी ऐ पूरी उनीड़ी उसरी सुबाय पूरी पूरी
काडो चाका चिका डोगे पूरी
काडो चाका चिका डोगे पूरी

स्रोत व्यक्ति - प्यारी बाई, ग्राम - मातापुर