भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ हम / ज़िया फ़तेहाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने अपने मैं से पूछा एक दिन
कोई बाईस तेरी ख़ुशनूदी का है
बोला, हैरत है, नहीं तुझ को ख़बर
राज़ इसी में तेरी बहदूदी का है
मैं ख़लाओं की हूँ लामहदूदियत
और तुझे अहसास महदूदी का है
तू तो है तार ए शिकसता की सदा
साज़ तेरा लहन ए दाऊदी का है

मैं तेरा मैं हूँ, न तू ठुकरा मुझे
मैं ही सच्चाई हूँ, कर सजदा मुझे