भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओळ्यूं / श्याम महर्षि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हारी मां
पड़दादै री अंगरखी
अर पड़दादी री
पगरखी
ओजूं ई
पोथी-पुराण दांई
मैल राखी है
म्हारै चोबारै री
लटाण माथैं

घर रे आगंणै
दादी रै चरखै री
कताई/बिळोवणै रो
अर उण रै हाथां सूं
बणायौड़ी राबड़ी रै
सुवाद री बातां
टाबर थकां म्हनैं
सुणावती म्हारी मां।
मां रै धूजतै हाथां सूं
बणायोड़ी मिस्सी रोटी
अर पंच भेळै रो साग
ओजूं ई आवै है याद म्हनै
मन जिण नै याद करै
अर तरसै कदास बै दिन
घर-बाखळ रो सुख
भळै बावड़ै/म्हारै घरां।